विमानन अकादमी दिल्ली में दाखिला    |   पीएचएल इंटर्नशिप   -  योजना  (यहां क्लिक करे),  आवेदन  (यहां क्लिक करे)   |   पीएचटीआई मुंबई में बैचलर ऑफ एरोनॉटिक्स एंड एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग के लिए एडमिशन ओपन  (यहां क्लिक करे)  |   चंडीगढ़-शिमला-चंडीगढ़ उड़ानों के लिए संपर्क नं, शिमला के लिए: डॉ विपुल वैद्य - 7018030880, श्री शिवम गुप्ता - 8368557785, चंडीगढ़ के लिए: सुश्री मोहिता शर्मा - 8283091219, सुश्री आलिया हैदर - 7827509985.   |   पारदर्शिता लेखापरीक्षा के लिए एक ढांचा     |   स्वच्छता शपथ



 

राजभाषा कक्ष

भारत सरकार की राजभाषा नीति, राजभाषा अधिनियम, 1963 तथा राजभाषा नियम, 1976 के अनुसरण में पवन हंस लिमिटेड में निम्नालिखित लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए राजभाषा कक्ष की स्था्पना की गई है :

कार्यान्वंयन: संगठन में राजभाषा नीति का कार्यान्व यन करने तथा राजभाषा अधिनियम, 1963 एवं राजभाषा नियम, 1976 के प्रावधानों का अनुपालन करने के लिए राजभाषा कक्ष की स्थाधपना की गई है । इस लक्ष्यय की प्राप्ति के लिए राजभाषा कार्यान्व यन समिति का गठन किया गया है जिसकी बैठकें तिमाही आधार पर राजभाषा कार्यान्व यन से संबंधित नीति विषयक मामलों पर निर्णय लिए जाने के लिए आयोजित की जाती हैं । राजभाषा कक्ष द्वारा ऐसे निर्णयों के संबंध में अनुवर्ती कार्रवाई की जाती है । इनमें केन्द्री य सरकार के कार्यालयीन कार्य हिन्दी में किए जाने से संबंधित वार्षिक कार्यक्रम के लक्ष्योंम की प्राप्ति के लिए हिन्दीत दिवस /पखवाड़े का आयोजन करने, राजभाषा प्रयोग के संबंध में की जा रही आंतरिक प्रगति का संचालन करने, तिमाही प्रगति रिपोर्टें प्रस्तुपत करने, नागर विमानन मंत्रालय, राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय तथा संसदीय राजभाषा समिति द्वारा किए जाने वाले राजभाषा निरीक्षण कार्यक्रमों के लिए तैयारी करने जैसे कार्य शामिल हैं ।

अनुवाद: विभिन्नक रिपोर्टों, परिपत्रों /आदेशों तथा आवश्य्कतानुसार कार्यालयीन पत्राचार का अनुवाद ।

प्रकाशन: ‘’हंसध्वतनि’’ हिन्दीस गृह पत्रिका का प्रकाशन

प्रशिक्षण: कर्मचारियों को कार्यालयीन कार्य हिन्दीन में करने के लिए प्रेरित करने हेतु हिन्दीी टाइपिंग/ आशुलिपि/ भाषा प्रशिक्षण/ कार्यशालाओं का आयोजन करना ।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया संपर्क करें

श्री जंगवीर सिंह
सहायक प्रबंधक (मानव संसाधन एवं प्रशासन)
फ़ोन: 0120-2476786
ईमेल: jangvir[dot]singh[at]pawanhans[dot]co[dot]in



Vigilance
Rate this site